मंत्री जी #joke

*Award*

दो मित्र बचपन से साथ पढे,साथ खेले। एक पढ़ने में होशियार पढ़ता रहता  दूसरा पढ़ने में चोर पढ़ता नही
साथ पढ़ते एक तो क्लास में अव्वल रहता,दूसरा मुश्किल से पास होता।
12वीं तक पहुँचते एक ने टोप किया  दूसरा फ़ैल हो गया, दोनों अब अलग हो गए।
पढ़ने वाला मित्र पढ़ता गया BSc ,MSc, Phd सफल वैज्ञानिक बना । 10 वर्ष बीत गए।
वैज्ञानिक बना मित्र आज बहुत खुश था  उसे उत्कृष्ठ कार्य के लिए Award मिलना था।
घर से निकलते उसे अपने मित्र की याद आगयी । सोचने लगा पढ़ता नहीं था कोई छोटा मोटा काम करता होगा। आज वो यन्हा होता तो देखता में किस मुकाम पर् पंहुच गया।
तालियों की गरग्राहट में वो मंत्री जी से award लेने नजदीक पंहुचा
यह क्या।  आश्चर्य
मंत्री जी(वही पुराना मित्र) पास बुला क़र कान में बोला --साले मेरे ही आगे हाथ फैलाना था, तो इतना पढ़ने की क्या जरूरत थी
😆😆😆😆